मैच ही नहीं, दिल भी जीता भारत
भारत,कोहली,इंग्लैंड,वनडे,पुणे
मैच ही नहीं, दिल भी जीता भारत
   गुरुवार | जनवरी १८, २०१८ तक के समाचार
बड़ी ख़बरें
कश्मीर का स्पष्ट संकेत
संसदीय उपचुनाव का आभासी बहिष्कार यह दिखाता है कि किस तरह से कश्मीर के लोग भारत सरकार से असंतुष्ट हैं।

रविंद्रनाथ टैगोर भारत के पहले नोबेल पुरस्कार विजेता थे जिन्हें साहित्य के क्षेत्र में योगदान के लिए 1913 में इस पुरस्कार से नवाज़ा गया था।

ताज़ी ख़बरें
नेहरू से आगे निकले मोदी
मुस्लिम महिलाओं के कल्याण के लिए जिस काम को पंडित जवाहरलाल नेहरू की सरकार नहीं कर पाई थी, उसे नरेन्द्र मोदी की सरकार ने कर दिखाया है। इससे उन्हें बधाई मिल रही है। 
सर्वाधिक लोकप्रिय
टूजी पर कांग्रेस के बोल, जनता सुन रही है
एक बार फिर कांग्रेस अपनी आदत से लाचार नजर आई। टूजी मामले पर विशेष अदालत का फैसला आया तो उसके नेता लंबी-लंबी बात करने लगे हैं। वहीं देश की जनता अभी उन्हें सुन रही है।
सही फैसला, पर गलत समय
चारा घोटाले का फैसला गलत समय पर आया है? यही चर्चा कुछ लोग कर रहे हैं। वे कहते हैं कि राजनीतिक वातावरण को ढाल बनाकर फैसले को अलग रंग दिया जाएगा, जो बिहार का दुर्भाग्य है।
नेहरू से आगे निकले मोदी
मुस्लिम महिलाओं के कल्याण के लिए जिस काम को पंडित जवाहरलाल नेहरू की सरकार नहीं कर पाई थी, उसे नरेन्द्र मोदी की सरकार ने कर दिखाया है। इससे उन्हें बधाई मिल रही है। 
अपराध की खबर देने वाला ही अपराधी
यह विचित्र बात है कि जिसने अपनी रिपोर्ट में अपराधियों की सिलसिलेवार खबर दी, वही एक दिन हत्यारा साबित हुआ। वह कोई और नहीं, बल्कि सुहैब इलियासी है।
मैच ही नहीं, दिल भी जीता भारत
भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ श्रृंखला का पहला वन-डे मुकाबला कुछ इस तरह जीता कि क्रिकेट प्रेमी भारतीय टीम के मुरीद हो गए हैं। पुणे में खेले गए इस मुकाबले में भारत ने इंग्लैंड को तीन विकेट से हरा दिया।
पुणे  | भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ श्रृंखला का पहला वन-डे मुकाबला कुछ इस तरह जीता कि क्रिकेट प्रेमी भारतीय टीम के मुरीद हो गए हैं। पुणे में खेले गए इस मुकाबले में भारत ने इंग्लैंड को तीन विकेट से हरा दिया।
लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत की शुरुआती पारी लड़खड़ा गई थी।लेकिन कप्तान विराट कोहली और केदार जाधव की शतकीय पारी ने मैच को रोमांचक मोड़ पर ला खड़ा किया। आखिरकार मुकाबले में भारत ने शानदार जीत दर्ज की।

यहां इंग्लैंड की टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत के सामने 351 रन का लक्ष्य रखा था। यह लक्ष्य एक समय इतना विशाल दिखाई दे रहा था कि भारतीय टीम का उसके निकट पहुंच पाना भी कठिन लग रहा था।

दरअसल, लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत की शुरुआती पारी लड़खड़ा गई थी।लेकिन कप्तान विराट कोहली और केदार जाधव की शतकीय पारी ने मैच को रोमांचक मोड़ पर ला खड़ा किया। आखिरकार मुकाबले में भारत ने जीत दर्ज की।

इंग्लैंड के 350 रनों के जवाब में भारत के शीर्षक्रम के बल्लेबाज लड़खड़ा गए। जल्दी ही के एल राहुल, शिखर धवन, युवराज सिंह और महेंद्र सिंह धोनी पैविलियन लौट गए।

लेकिन, कप्तान के रूप में पहला वन-डे खेल रहे विराट कोहली ने शानदार खेल का प्रदर्शन किया। उन्होंने भारतीय टीम की पारी को संभाला और जीत की संभावना जगाई। कोहली ने पांचवें विकेट की साझेदारी में केदार जाधव के साथ शानदार पारी खेली। उन्होंने 105 गेंदों में 122 रन बनाए। यह कोहली का 27वां वनडे शतक था।

कोहली के साथ जाधव ने भी शानदान खेल का प्रदर्शन किया। जाधव ने 120 रन बनाए। इसके बाद निचले क्रम के बल्लेबाजों ने संभलकर खेला और भारत को जीत दिला दी। इस क्रम में हार्दिक पंड्या ने 40 रनों की शानदार पारी खेली।


फ़ेसबुक/ट्विटर पर शेयर करें :
पिछली खबर अगली खबर
इससे जुड़ी ख़बरें
वह न भूलने वाली टेस्ट पारी
बात 1987 की है। भारत पाकिस्तान सिरीज़ में जब पहले चार टेस्ट ड्रा हो गए और पांचवें और अंतिम टेस्ट में इमरान ख़ान अपने प्रिय अब्दुल क़ादिर को खिलाने पर अड़े हुए थे, मियांदाद और इमरान के बीच तीखी नोकझोंक हुई।
क्या अब दिन फिरेंगे भारतीय हॉकी के
रविवार को भारतीय हॉकी टीम ने लखनऊ के मेजर ध्यानचंद स्टेडियम में खेले गए पुरुषों के जूनियर विश्व कप हॉकी टूर्नामेंट को अपने नाम किया।फाइनल में भारत ने यूरोप की बेहतरीन टीमों में से एक बेल्जियम को 2-1 से मात दी।
खबर पोस्ट करें | सेवा की शर्तें | गोपनीयता दिशानिर्देश| हमारे बारे में | संपर्क करे |
Back to Top