मैं न रहूंगी दिल्ली में
जे.पी.कॉलोनी,दिल्ली,गांव
मैं न रहूंगी दिल्ली में
   बुधवार | दिसंबर १३, २०१७ तक के समाचार
बड़ी ख़बरें
कश्मीर का स्पष्ट संकेत
संसदीय उपचुनाव का आभासी बहिष्कार यह दिखाता है कि किस तरह से कश्मीर के लोग भारत सरकार से असंतुष्ट हैं।

रविंद्रनाथ टैगोर भारत के पहले नोबेल पुरस्कार विजेता थे जिन्हें साहित्य के क्षेत्र में योगदान के लिए 1913 में इस पुरस्कार से नवाज़ा गया था।

ताज़ी ख़बरें
हत्या से पहले आत्महत्या कर लेगी आप: योगेन्द्र यादव
आम आदमी पार्टी की राजनीतिक उनके पुराने सहयोगी चिंतित हैं। उनका मानना है कि आम आदमी पार्टी को खत्म करने की कोशिश हो रही है, लेकिन यह पार्टी उससे पहले ही खुद को खत्म करने पर उतारू है।
सर्वाधिक लोकप्रिय
मैं न रहूंगी दिल्ली में
मैं यहां सब कुछ छोड़ कर आई थी- गांव से। गांव में मेरे घर की बड़ी सी ज़मीन थी जिन्हें इनके (शौहर की ओर इशारा करते हुए) ताया-आया ने घेर लिया। अब यहां से भी भगाया जा रहा है हमें।
नई दिल्ली  | मैं यहां सब कुछ छोड़ कर आई थी- गांव से। गांव में मेरे घर की बड़ी सी ज़मीन थी जिन्हें इनके (शौहर की ओर इशारा करते हुए) ताया-आया ने घेर लिया। अब यहां से भी भगाया जा रहा है हमें।
आज जब जेपी कॉलोनी मे फिर सर्वे हो रहे हैं तो मोइना बाजी इस जगह से जुड़े अपने उन लम्हों को याद करके अच्छे दिन के लिए खुश भी होती हैं मगर अपने बेटे का ध्यान करके गमगीन हो जाती हैं।

हम तो यहां से भी गए और वहां से भी। अगर जगह मिली तो यहां रहूंगी वरना नहीं रहूंगीं... किस उस पे रहूं?.......मैं दिल्ली मे नहीं रहूंगी।"

मोइना बाज़ी सन 1983 से जेपी कॉलोनी बस्ती में रह रही हैं। जब वो आई थी तो गिने-चुने मकान थे यहाँ। मकान क्या बांस-बल्ली में पर्दे टांग कर रहते थे लोग। किसी घर में कोई दरवाज़ा नही होता था। कहीं जाते थे तो पर्दा डाल कर निकल जाते थे। आसपास कूड़े का ढेर लगा होता था। ढेर सारे गढ्ढे थे। गत्तों का एक गोदाम था। धीरे-धीरे यहाँ लोग आते गए और बसते गए। पहले यह जगह इतनी खुली थी कि यहाँ पर खाट बिछा कर बैठा जा सकता था। यहाँ से ट्रक गुज़र जाया करते थे मगर आज एक आदमी के अलावा दूसरा नहीं गुज़र सकता।

वो बताती हैं, "रेवाड़ी, हरियाणा से मैं आई थी यहाँ। मेरे शौहर यहाँ के धोबी घाट पर काम करते थे इसलिए मैं यहीं पर रहने लगी।हमने इस जगह के गड्ढों को मलबे से भर कर समतल किया। उस वक्त यहाँ पर ना नालियाँ थी, ना पानी आता था और ना ही बिजली के कनेक्शन थे। आस-पास बहुत सारे नीम, पीपल और जामुन के पेड़ थे। पहले लकड़ी के चूल्हे पर खाना बनाते थे हम। यहीं अपनी बड़ी बेटी की शादी की। वो हंसी-खुशी के दिन थे। लेकिन अचानक मेरी ज़िंदगी में दुख का पहाड़ टूटा और मेरा 16 साल का बेटा अयूब, जो नौवीं में कक्षा पढ़ता था, कार एक्सीडेंट में रीढ़ कि हड्डी टूट जाने के कारण हमेशा के लिए हमसे जुदा हो गया।"

आज जब जेपी कॉलोनी मे फिर सर्वे हो रहे हैं तो मोइना बाजी इस जगह से जुड़े अपने उन लम्हों को याद करके अच्छे दिन के लिए खुश भी होती हैं मगर अपने बेटे का ध्यान करके गमगीन हो जाती हैं।

आज जब़ वो अपने कागज़ातो को फिर से खोल कर देख रही थी और अपने बीते हुए लम्हों को बता रही थी तो लगा जैसे वो अपनी जगह और अपने रिश्तों की गुत्थम-गुत्थी में हैं जहाँ एक अनचाहे फैसले ने उन्हे इन दोनों पर फिर से सोचने के लिए मजबूर कर दिया है।

फरज़ाना और सरिता

सभार- जे.पी.कॉलोनी, नई दिल्ली-2


फ़ेसबुक/ट्विटर पर शेयर करें :
पिछली खबर अगली खबर
इससे जुड़ी ख़बरें
मन में अनुपम
दिल्ली के निगमबोध घाट पर अनुपन मिश्र को विदा कर लोग-बाग लौटे तो वे खाली न थे। मन भारी था। अनुपम मिश्र की स्मृति उभर आई थी।
पराठे वाली गली का मजा लीजिए
दिल्ली का मुगलकालीन बाजार- चांदनी चौक। यह इलाका चंद पेचिदां गलियों से घिरा एक घना बाजार है। यहां एक पराठे-वाली गली है। जो इस गली में आता है, उसका मुरीद बनकर ही लौटता है।
खबर पोस्ट करें | सेवा की शर्तें | गोपनीयता दिशानिर्देश| हमारे बारे में | संपर्क करे |
Back to Top