प्रेम को छिपाना अपराध है: मैत्रेयी पुष्पा
दिल्ली,प्रेम,अपराध,मैत्रेयी पुष्पा,हिंदी अकादमी
प्रेम को छिपाना अपराध है: मैत्रेयी पुष्पा
   गुरुवार | जनवरी १८, २०१८ तक के समाचार
बड़ी ख़बरें
कश्मीर का स्पष्ट संकेत
संसदीय उपचुनाव का आभासी बहिष्कार यह दिखाता है कि किस तरह से कश्मीर के लोग भारत सरकार से असंतुष्ट हैं।
प्रेम को छिपाना अपराध है: मैत्रेयी पुष्पा
पुरुष प्रेम कहानी नहीं लिख सकते, क्योंकि स्त्री ही प्रेम के कोमल भावनाओं को बेहतर तरीके से समझ सकती है। सुप्रसिद्ध साहित्यकार व हिंदी अकादमी की उपाध्यक्ष मैत्रेयी पुष्पा ने यह बात कही।
आधी रात का सपना
आधी रात को हिन्दुस्तान के लोग सपने में क्या देखें, इसका प्रबंध क्या कोई कर सकता है?' इस सवाल को 1987 में राजेन्द्र माथुर ने उठाया था। वे अपने समय के शिखर पत्रकार थे। आज उसका जवाब मिल गया है।
बेतुके हंगामे का चलन
राहुल गांधी की हिंदी कमजोर है। सो कई बार उनके मुंह से उलटे-सीधे बयान निकल आते हैं। मगर क्या उनकी राजनीतिक सोच भी कमजोर है?

रविंद्रनाथ टैगोर भारत के पहले नोबेल पुरस्कार विजेता थे जिन्हें साहित्य के क्षेत्र में योगदान के लिए 1913 में इस पुरस्कार से नवाज़ा गया था।

ताज़ी ख़बरें
नेहरू से आगे निकले मोदी
मुस्लिम महिलाओं के कल्याण के लिए जिस काम को पंडित जवाहरलाल नेहरू की सरकार नहीं कर पाई थी, उसे नरेन्द्र मोदी की सरकार ने कर दिखाया है। इससे उन्हें बधाई मिल रही है। 
सही फैसला, पर गलत समय
चारा घोटाले का फैसला गलत समय पर आया है? यही चर्चा कुछ लोग कर रहे हैं। वे कहते हैं कि राजनीतिक वातावरण को ढाल बनाकर फैसले को अलग रंग दिया जाएगा, जो बिहार का दुर्भाग्य है।
टूजी पर कांग्रेस के बोल, जनता सुन रही है
एक बार फिर कांग्रेस अपनी आदत से लाचार नजर आई। टूजी मामले पर विशेष अदालत का फैसला आया तो उसके नेता लंबी-लंबी बात करने लगे हैं। वहीं देश की जनता अभी उन्हें सुन रही है।
गुजरात में बात बात में बिगड़ गई बात
इस बात की चर्चा लोग कर रहे हैं कि कांग्रेस पार्टी गुजरात विधानसभा के चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की बराबरी कर सकती थी, लेकिन गलत रणनीति और आकर्षक व्यक्तित्व के आभाव में वह अंत में पिछड़ गई। वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का विकल्प नहीं ढूंढ् पाई।
सर्वाधिक लोकप्रिय
टूजी पर कांग्रेस के बोल, जनता सुन रही है
एक बार फिर कांग्रेस अपनी आदत से लाचार नजर आई। टूजी मामले पर विशेष अदालत का फैसला आया तो उसके नेता लंबी-लंबी बात करने लगे हैं। वहीं देश की जनता अभी उन्हें सुन रही है।
सही फैसला, पर गलत समय
चारा घोटाले का फैसला गलत समय पर आया है? यही चर्चा कुछ लोग कर रहे हैं। वे कहते हैं कि राजनीतिक वातावरण को ढाल बनाकर फैसले को अलग रंग दिया जाएगा, जो बिहार का दुर्भाग्य है।
नेहरू से आगे निकले मोदी
मुस्लिम महिलाओं के कल्याण के लिए जिस काम को पंडित जवाहरलाल नेहरू की सरकार नहीं कर पाई थी, उसे नरेन्द्र मोदी की सरकार ने कर दिखाया है। इससे उन्हें बधाई मिल रही है। 
अपराध की खबर देने वाला ही अपराधी
यह विचित्र बात है कि जिसने अपनी रिपोर्ट में अपराधियों की सिलसिलेवार खबर दी, वही एक दिन हत्यारा साबित हुआ। वह कोई और नहीं, बल्कि सुहैब इलियासी है।
प्रेम को छिपाना अपराध है: मैत्रेयी पुष्पा
पुरुष प्रेम कहानी नहीं लिख सकते, क्योंकि स्त्री ही प्रेम के कोमल भावनाओं को बेहतर तरीके से समझ सकती है। सुप्रसिद्ध साहित्यकार व हिंदी अकादमी की उपाध्यक्ष मैत्रेयी पुष्पा ने यह बात कही।
नई दि्ल्ली  | पुरुष प्रेम कहानी नहीं लिख सकते, क्योंकि स्त्री ही प्रेम के कोमल भावनाओं को बेहतर तरीके से समझ सकती है। सुप्रसिद्ध साहित्यकार व हिंदी अकादमी की उपाध्यक्ष मैत्रेयी पुष्पा ने यह बात कही।
एक पुरुष के मुकाबले स्त्री ज्यादा अच्छी प्रेम कहानी लिखती है। स्त्री ही प्रेम के विविध रूपों को महसूस करती है, इसलिए वह सुंदर प्रेम कहानियां लिख सकती है।- मैत्रेयी पुष्पा

डॉ. कायनात काजी के पहले कहानी संग्रह बोगनवेलिया के लोकार्पण समारोह में मैत्रेयी पुष्पा ने कहा, “प्रेम को नकारना और प्रेम को छिपाना अपराध है। हम प्रेम को छिपाकर उसे अपराध की संज्ञा दे देते हैं, जो कि उचित नहीं है। अगर प्रेम है तो उसे खुलेआम स्वीकार करना चाहिए।”  

स्मरण रहे कि चार जनवरी को कलमकार फाउंडेशन की तरफ से नई दिल्ली के साहित्य अकादमी सभागार में आयोजित कार्यक्रम में मैत्रेयी पुष्पा ने कहानी संग्रह ‘बोगनवेलिया’ का लोकार्पण किया। इस अवसर पर मैत्रेयी पुष्पा ने कहा कि आजकल अच्छी कहानियां पढ़ने को नहीं मिल रही हैं। कायनात की कहानियां इस कमी को पूरा कर रही हैं।

उन्होंने आगे कहा कि पुस्तक खोलने के बाद वे लगातार एक के बाद एक सारी कहानियां पढ़ती चली गईं। इन कहानियों में जीवन की मामूली बातों को सुनाने का तरीका प्रभावित करता है।

चर्चा को गंभीर बहस की तरफ मोड़ते हुए मैत्रेयी पुष्पा ने प्रेम के कोमल भाव की तरफ श्रोताओं का ध्यान खींचा। उन्होंने कहा कि एक पुरुष के मुकाबले स्त्री ज्यादा अच्छी प्रेम कहानी लिखती है। स्त्री ही प्रेम के विविध रूपों को महसूस करती है, इसलिए वह सुंदर प्रेम कहानियां लिख सकती है।

उन्होंने देह और प्रेम के अंतर-संबंधों पर भी प्रकाश डाला। मैत्रेयी पुष्पा ने कहा कि लोगों को लगता है प्रेम के लिए देह ज़रूरी है, जबकि प्रेम अलग है और सेक्स अलग। प्रेम का सेक्स से संबंध नहीं है। स्त्री की आज़ादी सही मायने में तब होगी, जब उसे प्रेम करने की स्वतंत्रता होगी। वह जिससे प्रेम करे, उसे बिना संकोच पति से मिलवा सके। समाज भी यह स्वीकार सके कि पति अलग होता है और प्रेमी अलग। इतनी ताकत तब मिलेगी, जब ये समझ सकेंगे की प्रेम की मनाही कहीं नहीं है और देह प्रेम नहीं है।

इस अवसर पर वरिष्ठ कवि और भारतीय ज्ञानपीठ के निदेशक लीलाधर मंडलोई ने अपने विचार रखे। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत कर रहे लीलाधर मंडलोई ने कहा, “मैं कविता के पाठक की तरह किताब पढ़ता हूं और अनकहे को ढूंढ़ता हूं।”

वे बोले, “संग्रह की पहली ही कहानी “बोगनवेलिया” इतनी बढ़िया लगी कि यह शेर याद आ गया- ‘था इतना सख्त जान कि तलवार बेअसर, था इतना नर्म दिल कि गुल से कट गया।।’ उन्होंने प्रेम के शेड्स की बात करते हुए कहा कि प्रेम और करुणा दुनिया में दो ही तत्व हैं।

मंडलोई ने कहा कि “बोगनवेलिया” की कहानियां डॉ. कायनात के फोटोग्राफर गुण को शेयर करता है। उन्होंने कहा कि स्त्री अगर प्रेम कहानी लिखे तो पुरुष उसे नहीं पढ़ सकता। लोगों को अगर प्रेम समझ आ जाये तो समाज में नफरत ही नहीं रहेगी।

इस अवसर पर “पाखी” के संपादक प्रेम भारद्वाज ने भी अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि प्रेम और सियासत पर लिखना कठिन कार्य है। “बोगनवेलिया” की कहानियां अलग तरह की हैं। इसमें बहुत विविधता है। इसे पढ़ कर कई बार लगने लगता है कि जैसे दो अलग लोगों ने कहानियां लिखी हों।

वरिष्ठ टीवी पत्रकार एवं समीक्षक अनंत विजय ने डॉ कायनात काजी को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि इनकी भाषा में रंग हैं। उत्तर आधुनिक बिम्ब है। कहानी संग्रह के तौर पर “बोगनवेलिया” कायनात की पहली पुस्तक है। हालांकि, “कृष्णा सोबती का साहित्य और समाज” नामक पुस्तक इनकी पहले प्रकाशित हो चुकी है।

डॉ. कायनात काजी ब्लॉगर हैं। ‘राहगीरी’ नाम से हिंदी का पहला ट्रैवेल फोटोग्राफी ब्लॉग चलाती हैं। 


फ़ेसबुक/ट्विटर पर शेयर करें :
पिछली खबर अगली खबर
इससे जुड़ी ख़बरें
लगता नहीं कि चले गए सईद जाफरी
अभिनय की दुनिया में 'सईद जाफरी'! बस, नाम ही काफी है। अभिनय के व्याकरण का शुद्ध रूप देखना हो तो कोई सईद जाफरी को देखे अभिनय की बारीकी को जानने-समझने वाले यही कहते हैं।
पहले ‘दसविदानिया’, ‘चलो दिल्ली’ अब ‘भजते रहो’
"दसविदानिया" और "चलो दिल्ली" का निर्देशन कर चुके निर्देशक शशांत शाह अब अपनी नई फिल्म "भजते रहो" की शूटिंग पूरी कर ली है। ऐसी संभावना है कि यह फिल्म 19 जुलाई को पर्दे पर आएगी।
खबर पोस्ट करें | सेवा की शर्तें | गोपनीयता दिशानिर्देश| हमारे बारे में | संपर्क करे |
Back to Top