सासंदों ने देवभाषा में ली शपथ
देवभाषा,संस्कृत,हिंदी,सुषमा स्वराज,डा. हर्षवर्धन,उमा भारती
सासंदों ने देवभाषा में ली शपथ
   सोमवार | मई २१, २०१८ तक के समाचार
बड़ी ख़बरें
कश्मीर का स्पष्ट संकेत
संसदीय उपचुनाव का आभासी बहिष्कार यह दिखाता है कि किस तरह से कश्मीर के लोग भारत सरकार से असंतुष्ट हैं।

रविंद्रनाथ टैगोर भारत के पहले नोबेल पुरस्कार विजेता थे जिन्हें साहित्य के क्षेत्र में योगदान के लिए 1913 में इस पुरस्कार से नवाज़ा गया था।

ताज़ी ख़बरें
नेहरू से आगे निकले मोदी
मुस्लिम महिलाओं के कल्याण के लिए जिस काम को पंडित जवाहरलाल नेहरू की सरकार नहीं कर पाई थी, उसे नरेन्द्र मोदी की सरकार ने कर दिखाया है। इससे उन्हें बधाई मिल रही है। 
सर्वाधिक लोकप्रिय
सासंदों ने देवभाषा में ली शपथ
केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, जल संसाधन मंत्री उमा भारती और स्वास्थ्य मंत्री डा. हर्षवर्धन ने लोकसभा में संस्कृत भाषा में शपथ ली।
नयी दिल्ली | केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, जल संसाधन मंत्री उमा भारती और स्वास्थ्य मंत्री डा. हर्षवर्धन ने लोकसभा में संस्कृत भाषा में शपथ ली। दिल्ली से ही चुने गये भाजपा के अन्य नेता मीनाक्षी लेखी और प्रवेश वर्मा ने भी संस्कृत में शपथ ली।
उत्तर पूर्वी दिल्ली से भाजपा के टिकट पर चुने गये भोजपुरी गायक मनोज तिवारी ने बिना पढ़े, धारा प्रवाह हिंदी में शपथ लेकर सदस्यों की सराहना बटोरी। वहीं बिहार से भाजपा के टिकट पर चुनकर आये कीर्ति आजाद, हुकुमदेव नारायण यादव और वीरेन्द्र कुमार चौधरी ने मैथिली में शपथ ली।

पूर्वी दिल्ली से सांसद महेश गिरी ने भी संस्कृत में शपथ ली। महेश गिरी ने इस बारे में कई ट्वीट कर कहा, “लोकसभा के सांसद के रूप में देवभाषा संस्कृत में शपथ ले उसके संरक्षण और संवर्धन की ओर एक छोटी पहल की।’’

16वीं लोकसभा की कार्यवाही के दूसरे दिन लोकसभा के अस्थायी अध्यक्ष कमलनाथ ने सबसे पहले तीन वरिष्ठ सासंदों को शपथ लेने के लिए आमंत्रित किया, जिसमें पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, दुसरे नंबर पर राजग के कार्यकारी अध्यक्ष लालकृष्ण आडवाणी और तीसरे नंबर पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी थीं। इसके बाद अन्य सदस्यों को क्रमवार शपथ दिलाई गई।

नरेंद्र मोदी, लालकृष्ण आडवाणी और संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी ने हिंदी में सदन के सदस्यता की शपथ ली।

पश्चिम बंगाल के कोलकता उत्तर निर्वाचन क्षेत्र से चुनकर आये तृणमूल कांग्रेस के प्रमुख नेता सुदीप बंदोपाध्याय ने भी हिंदी में शपथ ली। 

उत्तर पूर्वी दिल्ली से भाजपा के टिकट पर चुने गये भोजपुरी गायक मनोज तिवारी ने बिना पढ़े, धारा प्रवाह हिंदी में शपथ लेकर सदस्यों की सराहना बटोरी।

भाजपा के वरिष्ठ नेता व रेल मंत्री सदानंद गौड़ा और केंद्रीय रासायनिक एवं खाद मंत्री अनंत कुमार ने कन्नड़ में शपथ ली। दोनों सांसद कर्नाटक से हैं।

सर्बानंद सोनोवाल ने असमिया में और जुएल ओराम ने उडिया भाषा में शपथ ग्रहण की। केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने पंजाबी में शपथ ली। वहीं नागरिक उड्डयन मंत्री अशोक गणपति राजू ने तेलुगू के बजाय हिंदी में शपथ ग्रहण ली। जबकि बिहार से भाजपा के टिकट पर चुनकर आये कीर्ति आजाद, हुकुमदेव नारायण यादव और वीरेन्द्र कुमार चौधरी ने मैथिली में शपथ ली।

इससे पहले जब सदन की कार्यवाही शुरू हुई तो अस्थायी अध्यक्ष (प्रोटेम स्पीकर) कमलनाथ ने सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का वड़ोदरा, सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव का उत्तर प्रदेश की मैनपुरी और के. चंद्रशेखर राव का आंध्र प्रदेश की लोकसभा सीट से इस्तीफा स्वीकार किया। ये सभी नेता दो-दो सीटों से चुनाव जीतकर आए थे। प्रोटेम स्पीकर कमलनाथ ने सदन को बताया कि विगत 29 मई, 2014 से इनका इस्तीफा स्वीकार किया जाता है और ये तीनों सीटें अब रिक्त घोषित की जाती हैं।

संसद का यह विशेष सत्र 11 जून तक चलेगा। सत्र के बाकी दिनों के कार्यक्रम के तहत 6 जून को स्पीकर का चुनाव होगा। 7 और 8 जून के अवकाश के बाद 9 जून को राष्ट्रपति का अभिभाषण होगा।


फ़ेसबुक/ट्विटर पर शेयर करें :
पिछली खबर अगली खबर
इससे जुड़ी ख़बरें
खबर पोस्ट करें | सेवा की शर्तें | गोपनीयता दिशानिर्देश| हमारे बारे में | संपर्क करे |
Back to Top