जयललिता से अम्मा बनने की कहनी
तमिलनाडु,जयललिता,मुख्यमंत्री,अभिनेत्री,राजनेता
जयललिता से अम्मा बनने की कहनी
   रविवार | नवंबर १९, २०१७ तक के समाचार
जयललिता से अम्मा बनने की कहनी
पांच तारीख की रात 11.30 बजे तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता की मृत्यु की खबर आई तो हर तरफ शोक की लहर दौड़ गई। वो तमिलनाडु की जनता के लिए महज मुख्यमंत्री नहीं थीं, बल्कि उनकी अम्मा भी थी। यहां पढ़ें उनके अम्मा बनने तक की कहानी।
बड़ी ख़बरें
कश्मीर का स्पष्ट संकेत
संसदीय उपचुनाव का आभासी बहिष्कार यह दिखाता है कि किस तरह से कश्मीर के लोग भारत सरकार से असंतुष्ट हैं।
प्रेम को छिपाना अपराध है: मैत्रेयी पुष्पा
पुरुष प्रेम कहानी नहीं लिख सकते, क्योंकि स्त्री ही प्रेम के कोमल भावनाओं को बेहतर तरीके से समझ सकती है। सुप्रसिद्ध साहित्यकार व हिंदी अकादमी की उपाध्यक्ष मैत्रेयी पुष्पा ने यह बात कही।
आधी रात का सपना
आधी रात को हिन्दुस्तान के लोग सपने में क्या देखें, इसका प्रबंध क्या कोई कर सकता है?' इस सवाल को 1987 में राजेन्द्र माथुर ने उठाया था। वे अपने समय के शिखर पत्रकार थे। आज उसका जवाब मिल गया है।
बेतुके हंगामे का चलन
राहुल गांधी की हिंदी कमजोर है। सो कई बार उनके मुंह से उलटे-सीधे बयान निकल आते हैं। मगर क्या उनकी राजनीतिक सोच भी कमजोर है?

रविंद्रनाथ टैगोर भारत के पहले नोबेल पुरस्कार विजेता थे जिन्हें साहित्य के क्षेत्र में योगदान के लिए 1913 में इस पुरस्कार से नवाज़ा गया था।

ताज़ी ख़बरें
हत्या से पहले आत्महत्या कर लेगी आप: योगेन्द्र यादव
आम आदमी पार्टी की राजनीतिक उनके पुराने सहयोगी चिंतित हैं। उनका मानना है कि आम आदमी पार्टी को खत्म करने की कोशिश हो रही है, लेकिन यह पार्टी उससे पहले ही खुद को खत्म करने पर उतारू है।
चंपारण सत्याग्रह के हीरो थे मोहम्मद मूनिस
महात्मा गांधी के चंपारण आंदोलन ने कई लोगों को प्रभावित किया और वे इस अभियान से जुड़ते चले गए। लेकिन इस आंदोलन में बहुत सकारात्मक और अहम भूमिका निभाने के बाद भी जो सुर्खियों से सबसे दूर रहे, वे थे पीर मोहम्मद अंसारी।
भारत को भारत की नजर से देखें
श्रृंगेरी पीठ ने कोलंबिया विश्वविद्यालय के साथ एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किया है, जिसमें पीठ ने विश्वविद्यालय को आदि शंकराचार्य के ग्रंथों का अनुवाद कर उसकी व्याख्या की जिम्मेदारी सौंपी है।
आप की पोल खोलती शुंगलू कमेटी की रिपोर्ट
दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने आम आदमी पार्टी का दफ्तर बनाने के लिए जिस रास्ते को चुना है, वह अवैध है। ध्यान रहे कि यह पार्टी राजनीति में आदर्श स्थिति लौटाने का नगाड़ा पीटती रही है।
सर्वाधिक लोकप्रिय
नई दि्ल्ली  | पांच तारीख की रात 11.30 बजे तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता की मृत्यु की खबर आई तो हर तरफ शोक की लहर दौड़ गई। वो तमिलनाडु की जनता के लिए महज मुख्यमंत्री नहीं थीं, बल्कि उनकी अम्मा भी थी। यहां पढ़ें उनके अम्मा बनने तक की कहानी।
अभिनेत्री से राजनेता बनीं जयललिता के बारे में बहुत कम लोगों को पता है कि वो अभिनेत्री कतई नहीं बनना चाहती थीं। वो बहुत अच्छी छात्रा थीं। स्कूल के दिनों में उन्हें सर्वश्रेष्ठ छात्रा की शील्ड मिली और दसवीं कक्षा की परीक्षा में उन्हें पूरे तमिलनाडु में दूसरा स्थान मिला।

बात 25 मार्च 1989 की है। तमिलनाडु विधानसभा में बजट पेश किया जा रहा था। जैसे ही मुख्यमंत्री करुणानिधि ने बजट भाषण पढ़ना शुरू किया कांग्रेस के सदस्य ने प्वाएंट ऑफ ऑर्डर उठाया कि पुलिस ने विपक्ष की नेता जयललिता के खिलाफ अप्रजातांत्रिक ढ़ंग से काम किया है।

जयललिता ने भी उठ कर शिकायत की कि मुख्यमंत्री के उकसाने पर पुलिस ने उनके खिलाफ कार्रवाई की है और उनके फोन को टैप किया जा रहा है। स्पीकर ने कहा कि वो इस मुद्दे पर बहस की अनुमति नहीं दे सकते क्योंकि बजट पेश किया जा रहा है।

ये सुनना था कि विधानसभा सदस्य बेकाबू हो गए। एआईडीएमके के सदस्य चिल्लाते हुए सदन के वेल में पहुंच गए। एक सदस्य ने ग़ुस्से में करुणानिधि को धक्का देने की कोशिश की जिससे उनका संतुलन बिगड़ गया और उनका चश्मा ज़मीन पर गिर कर टूट गया। एक एआईडीएमके सदस्य ने बजट के पन्नों को फाड़ दिया।

विधानसभा के अध्यक्ष ने सदन को स्थगित कर दिया। जयललिता की जीवनी 'अम्मा जर्नी फ़्राम मूवी स्टार टु पॉलिटिकल क्वीन' लिखने वाली वासंती बताती हैं, "जैसे ही जयललिता सदन से निकलने के लिए तैयार हुईं, एक डीएमके सदस्य ने उन्हें रोकने की कोशिश की। उसने उनकी साड़ी इस तरह से खींची कि उनका पल्लू गिर गया। जयललिता भी जमीन पर गिर गईं।"

"एक बलिष्ट एआईडीएमके सदस्य ने डीएमके सदस्य की कलाई पर जोर से वार कर जयललिता को उनके चंगुल से छुड़वाया। अपमानित जयललिता ने पांचाली की तरह प्रतिज्ञा ली की कि वो उस सदन में तभी फिर कदम रखेंगी जब वो महिलाओं के लिए सुरक्षित हो जाएगा। दूसरे शब्दों में वो अपने आप से कह रही थीं कि वो अब तमिलनाडु विधानसभा में मुख्यमंत्री के तौर पर ही वापस आएंगी।"

अभिनेत्री से राजनेता बनीं जयललिता के बारे में बहुत कम लोगों को पता है कि वो अभिनेत्री कतई नहीं बनना चाहती थीं। वो बहुत अच्छी छात्रा थीं। स्कूल के दिनों में उन्हें सर्वश्रेष्ठ छात्रा की शील्ड मिली और दसवीं कक्षा की परीक्षा में उन्हें पूरे तमिलनाडु में दूसरा स्थान मिला।

गर्मियों की छुट्टियों के दौरान वो अपनी माँ के साथ एक समारोह में गईं जहाँ एक प्रोड्यूसर वीआर पुथुलू ने उन्हें अपनी फ़िल्म में काम करने का प्रस्ताव दिया। उनकी मां ने उनसे पूछा और उन्होंने हां कर दी। अपनी दूसरी ही फ़िल्म में जयललिता को उस समय तमिल फ़िल्मों के चोटी के अभिनेता एमजी रामचंद्रन के साथ काम करने का मौका मिला।

जयललिता पर किताब लिख चुकीं वासंती कहती हैं, "एमजीआर उनसे शुरू से फ़ैसिनेटेड थे। जयललिता बहुत अच्छी अंग्रेज़ी बोलती थीं। जूसरी अभिनेत्रियों और उनमें बहुत अंतर था। शूटिंग के समय वो एक कोने में बैठ कर अंग्रेज़ी उपन्यास पढ़ा करती थीं और किसी से कोई बातचीत नहीं करती थीं। देखने में बहुत सुंदर थी। एकदम गोरी चिट्टी। तमिलनाडु में आमतौर से इतनी गोरी लड़कियां नहीं दिखाई देती हैं।"

एमजीआर का जयललिता के प्रति शुरू से ही साफ़्ट कार्नर हो गया था। एक बार थार रेगिस्तान में शूटिंग के दौरान रेत इतना गर्म था कि जयललिता उस पर चल नहीं पा रही थी। तभी एमजीआर ने पीछे से आ कर उन्हें गोदी में उठा लिया था ताकि उनके पैर न जलें।

वासंती बताती हैं, "जयललिता ने खुद कुमुदन पत्रिका में लिखा है कि कार पार्किंग थोड़ी दूर पर थी। पैरों में कोई चप्पल और जूते नहीं थे। एक कदम भी नहीं चल पा रही थी। मेरे पैर लाल हो गए थे। मैं कुछ कह नहीं पा रही थी लेकिन एमजीआर मेरी परेशानी को समझ गए और उन्होंने मुझे अपनी गोद में उठा लिया।"

एमजीआर और जयललिता के संबंधों में भी बहुत उतार चढ़ाव आए। उन्होंने उन्हें पार्टी के प्रोपेगेंडा सचिव के साथ साथ राज्यसभा का सदस्य भी बनाया। लेकिन पार्टी में जयललिता का इतना विरोध हुआ कि एमजीआर को उन्हें प्रोपेगेंडा सचिव के पद से हटाना पड़ा। इस बीच एमजीआर गंभीर रूप से बीमार हो गए। जब उनका देहांत हुआ तो उनके परिवार वालों ने जयललिता को उनके घर तक में नहीं घुसने दिया।

वासंती बताती हैं, "जयललिता एमजीआर के घर के सामने कार से उतरीं और अपनी हथेलियों को जोर जोर से गेट पर मारने लगीं। जब गेट खुला तो किसी ने उनसे नहीं बताया कि एमजीआर के शव को कहाँ रखा गया है। वो गेट से पीछे की सीढ़ियों तक कई बार दौड़ कर गईं लेकिन एमजीआर के घर का हर दरवाज़ा उनके लिए बंद कर दिया गया।"

"बाद में उन्हें बताया गया कि एमजीआर के पार्थिव शरीर को पिछले दरवाज़े से राजाजी हॉल ले जाया गया है। जयललिता तुरंत अपनी कार में बैठीं और ड्राइवर से राजाजी हॉल चलने के लिए कहा। वहां वो किसी तरह अपने आप को एमजीआर के सिरहाने पहुंचाने में सफ़ल हो गईं।"

वासंती बताती हैं कि उस दिन जयललिता की आंखों से एक आंसू नहीं निकला। वो दो दिनों तक एमजीआर के पार्थिव शरीर के सिरहाने खड़ी रहीं। 13 घंटे पहले दिन और 8 घंटे दूसरे दिन। एमजीआर की पत्नी जानकी रामचंद्रन की कुछ महिला समर्थकों ने उनके पैरों को अपनी चप्पलों से कुचलने की कोशिश की।

"कुछ ने उनकी त्वचा में नाख़ून गड़ा कर उन्हें चिकोटी काटने की कोशिश की ताकि वो वहां से चली जांए। लेकिन जयललिता सारा अपमान सहते हुए वहां से टस से मस नहीं हुईं। जब एमजीआर के पार्थिव शरीर को अंतिम यात्रा के लिए गन कैरेज पर ले जाया गया तो जयललिता भी उसके पीछे पीछे दौड़ीं। उस पर खड़े एक सैनिक ने अपने हाथों का सहारा देकर उन्हें ऊपर आने में भी मदद की।"

"तभी अचानक जानकी के भतीजे दीपन ने उन पर हमला किया और उन्हें गन कैरेज से नीचे गिरा दिया। जयललिता ने तय किया कि वो एमजीआर की शव यात्रा में आगे नहीं भाग लेंगीं। वो अपनी कंटेसा कार में बैठीं और अपने घर वापस आ गईं।"

1992 के आम चुनाव में जयललिता ने पहली बार जीत दर्ज की और राज्यपाल भीष्म नारायण सिंह ने उन्हें पहली बार मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई।

तमिलनाडु के पूर्व राज्यपाल भीष्म नारायण सिंह बताते हैं, "जयललिताजी जब शपथ लेने के बाद मुझसे मिलने आईं तो मुझे पता चल चुका था कि वो गाजर का हलवा पसंद करती हैं। इसलिए मैंने उनके लिए गाजर का हलवा बनवाया। मैंने उनसे कहा कि आपका दृष्टिकोण राष्ट्रीय है, इसलिए मैं उम्मीद करता हूं कि आप कानून और व्यवस्था के मुद्दे पर वही लाइन लेंगीं और एलटीटीई जैसे पृथकतावादी संगठनों को अपनी जड़ें जमाने का मौका नहीं मिलेगा।"

"मेरे प्रति उनके मन में इतना सम्मान था कि वो हर हफ़्ते कोशिश करती थीं कि आकर राज्यपाल को ब्रीफ़ करें। भारत के किसी राज्य में एसपी से लेकर मुख्य सचिव की ट्रांसफ़र की फ़ाइल कभी भी राज्यपाल को नहीं भेजी जाती हैं, लेकिन जब तक मैं वहां का राज्यपाल रहा, ट्रांसफ़र और पोस्टिंग की फ़ाइल हमेशा मेरे पास आती थी।"

जयललिता चार बार तमिलनाडु की मुख्यमंत्री रहीं। अपने मजबूत प्रशासन के लिए जहां उन्हें अक्सर वाहवाही मिली, वहीं उन पर व्यक्ति पूजा और भृष्टाचार के आरोप भी लगे।

वरिष्ठ पत्रकार एम आर नारायणस्वामी कहते हैं, "काफ़ी अद्भुत करियर रहा है इनका। ध्यान देने वाली बात ये है कि ये ब्राह्मण जाति से आती थी और उनका जन्म कर्नाटक में हुआ था। उन्होंने जिस तरह से एआईडीएमके पार्टी पर अपना नियंत्रण जमाया, उसे एक बहुत बड़ी उपलब्धि माना जाएगा।"

"चाहे हम उन्हें पसंद करें या नापसंद करें। इनके प्रशासन में बहुत कमियां रही हैं, लेकिन बहुत उपलब्धियां भी रही हैं, जिस तरह उन्होंने सुनामी के दौरान प्रशासन चलाया, लोग उसे आज भी याद करते हैं। ये अलग बात है कि जब पिछले साल चेन्नई में बाढ़ आई थी तो उनका प्रशासन फ़ेल हो गया था।"

जयललिता की मीडिया से बहुत कम बनी। उन पर सनकी और मूडी होने का ठप्पा भी लगा। बीबीसी के लिए दिए एक मात्र इंटरव्यू में वो मशहूर पत्रकार करण थापर के सवाल पूछने के ढ़ंग से नाराज़ हो गईं। जब इंटरव्यू के अंत में थापर ने कहा कि उन्हें उनसे बात कर बहुत खुशी हुई है तो जयललिता का जवाब था, "मुझे आपसे मिल कर कतई ख़ुशी नहीं हुई। नमस्ते।"

1998 में उन्होंने वाजपेयी सरकार को समर्थन दिया, लेकिन जब उन्होंने देखा कि उनकी करुणानिधि सरकार को बर्ख़ास्त करने में कोई दिलचस्पी नहीं है, तो उन्होंने समर्थन वापस ले लिया। सन् 2002 में जब आधी रात को करुणानिधि को जगा कर गिरफ़्तार किया गया तो उन पर बदले की कार्रवाई करने का आरोप भी लगा।

नारायणस्वामी कहते हैं, "वो बदले की भावना से काम करने में यकीन करती थीं। वो बहुत मूडी थीं।उनमें स्थायित्व का अभाव एक बड़ा अवगुण रहा। वो मास लीडर रहीं। उनको लाखों लोग पसंद करते हैं लेकिन उन्होंने चंद लोगों को जिनका राजनीति से कोई वास्ता नहीं रहा, अपने इर्द गिर्द रखती थीं।"

उन्होंने बताया- "जिस ढ़ंग से उन्होंने मुंहबोले भान्जे की शादी करवाई, इसने उनको बहुत नुकसान पहुंचाया। इससे साफ लगा कि जो शादी करवा रहा है, वो राजनीति का बंदा नहीं है। उसे इस बात की समझ ही नहीं है कि देश और तमिलनाडु में कितनी गरीबी है और लोग किस तरह से रहते हैं। राजनीति में इस तरह के इंप्रेशन या संकेत ज्यादा नुकसान करते हैं, बजाए इसके कि अदालत में ये तय हो कि आप भ्रष्ट हैं या नहीं।"

इस बात से कोई इंकार नहीं कर सकता कि वो बहुत मजबूत नेता थी, जिनको लोगों ने असीम प्यार दिया।

वासंती कहती हैं, "उनकी ताक़त थी कि वो बहुत मज़बूत नेता रही हैं. उनका पार्टी पर इतना मज़बूत नियंत्रण है कि लोग उनके सामने काँपा करते हैं. वो अपने मंत्रियों से मिलना भी पसंद नहीं करती हैं. लोगों में मुफ़्त चीज़े बांटने की नीति ने भी उन्हें बहुत लोकप्रिय बनाया... मुफ़्त ग्राइंडर, मुफ़्त मिक्सी, बीस किलो चावल देने पर अर्थशास्त्रियों ने बहुत नाक भौं सिकोड़ी, लेकिन इसने महिलाओं के जीवनस्तर को उठा दिया... और लोगों के बीच उनकी जगह बनती चली गई."

(बीबीसी संवाददाता रेहान फजल की यह रिपोर्ट बीबीसी डॉट कॉम से साभार है।)


फ़ेसबुक/ट्विटर पर शेयर करें :
पिछली खबर अगली खबर
इससे जुड़ी ख़बरें
जयललिता दोषी क़रार, विधानसभा सदस्यता ख़त्म
जेल की सज़ा सुनाए जाने के फौरन बाद जयललिता ने ख़राब तबियत की शिकायत की जिसके बाद उन्हें मेडिकल चैकअप के लिए ले जाया गया।
तमिलनाडु में हिंदी की मांग
एक ऐसी पीढ़ी तैयार हो रही है, जो पूरे भारत को अपना कार्यक्षेत्र मानती है और इसमें भाषा की बाधा नहीं आने देना चाहती।
खबर पोस्ट करें | सेवा की शर्तें | गोपनीयता दिशानिर्देश| हमारे बारे में | संपर्क करे |
Back to Top