रविवार | नवंबर १९, २०१७ तक के समाचार
बड़ी ख़बरें
@legend
नवीनतम
महाश्वेता देवी थीं तो एक आवाज थी
महाश्वेता देवी गंभीर रूप से बीमार थी। यह आशंका गहरी थी कि वे शरीर त्याग देंगीं, लेकिन यह मानने के लिए कोई तैयार नहीं था। जब खबर आई तो साहित्य जगत में शोक की लहर दौड़ गई।
परंपरा के पार कदम, मिला अधिकार
शनि शिंगणापुर मंदिर में 400 सालों से चली आ रही परंपरा को तोड़कर एलान किया गया कि गुडी पड़वा पर महिलाओं को मंदिर में दाखिल होने की मंजूरी दे दी जाएगी।
जुगनू बीच अंधेरा है
ग्लैमर के इस दौर में कोई कितना अकेला हो सकता है, यह प्रत्यूषा बनर्जी की कहानी बयां करती है। किसी ने सोचा नहीं होगा, पर शिखर पर पहुंचकर उन्होंने आत्महत्या कर ली।
हरियाणा में एक पीड़िता आई सामने, शिकायत दर्ज
जाट आंदोलन के दौरान दिल्ली से सटे मुरथल में गैंगरेप की घटनाओं की जांच कर रही पुलिस की टीम ने एक महिला की शिकायत दर्ज की है। वहीं सड़क पर चलते हुए हर तरफ आगजनी और हिंसा के रंग दिख जाते हैं।
बेटियों की जिंदगी की भीख मांगता हूं: पीएम
'मैं आपके सामने भिखारी बनकर खड़ा हूं। बेटियों की जिंदगी के लिए भीख मांग रहा हूं।' प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पानीपत में यह बात कही है।
एक महिला कुली की कहानी
पुरुष प्रधान समाज में किसी पुरुष प्रधान पेशा से महिला का जुड़ना एकबारगी चकित करता है। ऐसी एक कहानी मंजू की है।
दुराचार के आरोपी राघवेश्वर भारती
राघवेश्वर भारती यौन दुराचारी हैं। उनके मठ से जुड़ी एक महिला ने यही आरोप लगाया है। बात स्थानीय थाना और कचहरी तक सीमित नहीं है, बल्कि हाई कोर्ट तक पहुंच गई है।
पत्रकारिता का अश्लील रंग
देश का एक बड़ा अंग्रेजी अखबार पत्रकारिता के नाम पर अश्लील रंग पेश कर रहा है। अखबार ने दीपिका पादुकोण को अपना निशाना बनाया है।
थूक चाटने से किया इनकार, मिली नग्न लाश
पार्षद नमिता रॉय की अध्यक्षता वाली इस कंगारु कोर्ट ने पीड़िता के पिता को बेइज़्ज़त किया और पिटाई करने का आदेश दिया।
विधवा थी लखनऊ पीड़िता
उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के मोहनलालगंज इलाके में बुधवार रात जिस महिला की सामूहिक बलात्कार के बाद हत्या कर दी गई थी, वह विधवा थी।
@legend
सर्वाधिक लोकप्रिय
प्यार किया तो मिली बलात्कार की सजा
पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में एक गैर आदिवासी लड़के से प्यार करने के कारण एक 20 वर्षीय आदिवासी लड़की के साथ 12 लोगों ने कथित सामूहिक बलात्कार किया है।
तेजाब से तबाह जिंदगी
तेजाब के हमले से केवल शरीर ही नहीं झुलसता है, बल्कि इसकी टीस ताउम्र रह जाती है। ऐसी कई लड़कियां इस हमले की शिकार हुई हैं। हालिया घटना दिल्ली से लगे फरीदाबाद की है।
श्रेष्ठता का भान, पर दकियानूसी ख्याल
इसे अपना दुर्भाग्य नहीं तो फिर क्या कहेंगे कि ऐसा लेख लिखने के लिए कलम उठानी पड़े। शर्मिंदा हूं, आज अपनी ही संस्कृति के महान होने का भ्रम टूटने पर।
तेजाब हमलों को कर नहीं सकते नजरंदाज
तेजाब से हमला महिलाओं पर किये गए वीभत्सतम अपरोधों में सबसे ज्यादा वीभत्स है। दुनिया के कई देशों में तेजाब हमलों के पीड़ितों के पुनर्वास के नियम बनाए गए हैं जबकि हमें अब भी इस मामले पर सरकार से एक लंबी लड़ाई लड़नी है।
अब गर्भ तक घोटाला
चिकित्सक और अधिकारियों की गैर जिम्मेदाराना हरकत की शिकार देश की हजारों महिलाएं का जीवन सरकारी स्वास्थ्य योजना की भेंट चढ़ गया है। वो परेशान हैं। आशंकाओं तले अपना जीवन जी रही हैं।
पत्रकारिता का अश्लील रंग
देश का एक बड़ा अंग्रेजी अखबार पत्रकारिता के नाम पर अश्लील रंग पेश कर रहा है। अखबार ने दीपिका पादुकोण को अपना निशाना बनाया है।
खबर पोस्ट करें | सेवा की शर्तें | गोपनीयता दिशानिर्देश| हमारे बारे में | संपर्क करे |
Back to Top